food

Iran: 1200 छात्रों को जानबूझकर जहरीला खाना देने के आरोप: ईरान (Iran) में बुधवार से तीन दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल होने वाली थी। लेकिन इससे एक रात पहले ही बड़े पैंमाने पर इन प्रदर्शनों में हिस्सा लेने वाले छात्रों की जहरीला खाना खाने से तबियत खराब होने से खलबली मच गई है।
ईरान में जहरीला खाना खाने से 1200 छात्रों की तबियत खराब हो गई, ये छात्र खराजमी और अर्क यूनिवर्सिटी के हैं, जो बुधवार से सरकार विरोधी प्रदर्शनों में भाग लेने वाले थे, नेशनल स्टूडेंट यूनियन ने प्रशासन पर जानबूझकर छात्रों को जहरीला खाना देने का आरोप लगाया है.,

                  ईरान की खराजमी और अर्क यूनिवर्सिटी के अलावा चार अन्य संस्थानों के छात्रों ने भी यूनिवर्सिटी में खाना खाने के बाद इसी तरह की शिकायतें की है , इसके विरोध में अब ईरान (Iran) की कई यूनिवर्सिटीज के छात्र कैफेटेरिया के खाने का बहिष्कार कर रहे हैं।
इस बीच ईरान सरकार ने मॉरैलिटी पुलिस को भंग करने की खबरों से इनकार किया। मॉरैलिटी पुलिस पर 22 साल की महसा अमीनी की हत्या का आरोप लगा है ईरान की मॉरैलिटी पुलिस देश की पुलिस व्यवस्था का ही हिस्सा है, जो देश में इस्लामिक कानूनों और डेस कोड को लागू करना सुनिश्चित करती है इसे BASIJ भी कहा जाता है. यह दरअसल उन लोगों का समूह है, जो ईरान की सरकार के प्रति वफादार है और खुद को अर्धसैनिकबलों की तरह पेश करता है। ईरान में बासिज पिछले दो दशकों से सरकार के खिलाफ किसी भी असंतोष को खत्म करने में अहम भूमिका निभाता रहा है।
बता दें कि 22 साल की ईरानी लड़की महसा अमीनी को ठीक तरह से हिजाब न पहनने की वजह से मॉरैलिटी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस कस्टडी में महसा अमीनी की मौत हो गई। मॉरैलिटी पुलिस पर अमीनी की मौत का आरोप लगाया गया इसके, बाद देशभर में सरकार और हिजाब के विरोध में प्रदर्शन होने लगे इन प्रदर्शनों में छात्र बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं।। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here